Aatmagunjan (Urdu)
Aatmagunjan (Urdu)

Aatmagunjan (Hindi)

   

" आत्मगुंजन "  राग-द्वेष, स्वार्थ, भेदबुद्धि, अहंकार आदि इस प्रकार के अन्य जिन-जिन कारणों से मनुष्य बंधन में पड़कर चौरासी के चक्कर में भटकता है उनसे बचकर कैसे मुक्तात्मा हो सकता है, उन सभी बातों व गीता, भागवत, पुराण, उपनिषदों का सार काव्यशैली में ‘आत्मगुंजन’ पुस्तक के रूप में प्रस्तुत किया गया है । जैसे -

छोटे बड़े निर्धन धनी, कर प्यार सबको एक सम

बट्टे सभी शिल एक के, कोई नहीं है वेश कम ।।

मत तू किसीसे कर घृणा, सबकी भलाई चाह रे

जो मार्ग में काँटे धरे, बो फूल उसकी राह रे ।।...

इस पुस्तक के बार-बार पठन व चिंतन से जीवन के गूढ़ रहस्यों की परतें खुलने लगती हैं । अध्यात्म के पथिकों के लिए यह अद्भुत है । इसका लाभ लेनेवाले ‘मैं-मेरे... तू-तेरे...’ की तुच्छ मान्यताओं से ऊपर उठकर उन्नत जीवन की ओर अग्रसर होने लगते हैं । हृदय के बिखरे तारों को झंकृत कर जीवत्व से शिवत्व की ओर चलने की प्रेरणा देनेवाली अनुभव-वाणी से युक्त इस आत्मगुंजन सत्साहित्य में है :

* क्या है मनुष्य का सच्चा कुल, गोत्र ?

* दुःख, शोक एवं खिन्नता मिटानेवाली चिंतन-कणिकाएँ

* साधना-पथ में आनेवाले विघ्न कौन–कौन से हैं ?

* मन के दोष एवं उन्हें दूर करने के उपाय

* दैवीय गुणों का वर्णन व उन्हें हृदयस्थ करने की युक्ति

* मानव का मुख्य कार्य क्या है ?

* तो स्वर्ग द्वार सच में तेरे लिए खुल जाय

* कौन-से मनुष्य सुखी हैं ?

* कौन-से नर सिद्धि को नहीं पा सकते ?

* शास्त्र, गुरु, भगवान में श्रद्धा करने से होता कल्याण

* संकीर्ण ‘मैं-मेरे...’ से बुद्धि हटाकर उसे अपने वास्तिवक ‘मैं’ में लगायें

* सभी दुःखों का नाश करनेवाली परमात्म भावना का विकास कैसे करें ?

* जन्म-मरणरूपी महादुःख का नाश कैसे हो ?

और भी बहुत कुछ... वह भी रोचक काव्यशैली में !

Previous Article Meetha SulooK (Urdu)
Next Article Mangalmaya Jivan-Mrityu (Urdu)
Print
347 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.